साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है कारण है | Sabun ka bulbula kuch samay baad fat jata hai karan hai

45
1
साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है कारण है | Sabun ka bulbula kuch samay baad fat jata hai karan hai

हम अपने दैनिक जीवन में साबुन का उपयोग तो करते ही हैं. चाहे वह नहाने के दौरान अपनी त्वचा को साफ करने के लिए हो. या वस्तुओं की सफाई में इसका उपयोग करते हैं. साबुन में कुछ केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है. जो गंदगी को साफ करने के काम आता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है कारण है क्या इसका?

साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है इसका कारण निम्नलिखित है:

उत्तर: साबुन का बुलबुला एक गोले के आकार में होता है. इसलिए इसका अपना त्रिज्या होता है. जब साबुन का बुलबुला बढ़ता है तो उसकी त्रिज्या भी बढ़ जाती है. आईए जानते हैं कि साबुन का बुलबुला आखिर फटता क्यों है, इसे विस्तार से समझते हैं.

साबुन का बुलबुला का निर्माण कैसे होता है?

सबसे पहले हमको यह समझने की जरूरत है कि साबुन के बुलबुले बनते कैसे हैं. असल में साबुन के बुलबुले में साबुन और पानी का गोल होता है. जिसके अंदर हवा भरी होती है. जब साबुन और पानी के घोल में हवा प्रवेश करता है तो इसके मिश्रण का एक बहुत पतला परत का निर्माण होता है. और उसके अंदर हवा भर जाती. और हवा अंदर ही कैद हो जाती है.

साबुन के बुलबुले के फटने का कारण क्या है?

साबुन के बुलबुले के फटने का मुख्यतः दो कारण होता है.

पहला कारण साबुन के बुलबुले का सतही क्षेत्रफल: असल में साबुन का बुलबुला जब छोटा होता है तो वह जल्दी नहीं फटता है. इसकी तुलना में साबुन के बड़े बुलबुल जल्दी फट जाते हैं. असल में बड़े बुलबुल का सतही क्षेत्रफल अधिक होता है. इस कारण उस पर पड़ने वाला वायुमंडलीय दबाव भी ज्यादा लगता है. यही कारण होता है कि उसके फटने की संभावना ज्यादा अधिक होती है.

दूसरा मुख्य कारण है वायुमंडलीय दबाव: हम सभी जानते हैं कि वायुमंडल के अंदर आने वाली हर चीज पर वायुमंडलीय दबाव पड़ता है. जब यह दबाव बुलबुले के अंदर भरी हवा से अधिक हो जाता है तो बाहरी वायुमंडलीय दबाव उस पर प्रेशर डालता है जिससे वह बुलबुला फट जाता है.

साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है कारण है | Sabun ka bulbula kuch samay baad fat jata hai karan hai
साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है कारण है | Sabun ka bulbula kuch samay baad fat jata hai karan hai

यह पोस्ट भी पढ़े: Highest donation for ram mandir list; Ram Mandir Ayodhya Ko Banane Me Kitna Paisa Laga

इसके अलावा अन्य कारणों की बात की जाए तो दो अन्य कारण भी मायने रखता है.

पहला कारण है कि साबुन की गुणवत्ता कैसी है. अगर साबुन में अच्छे रसायनों का उपयोग किया जाता है. तो उससे बने बुलबुल जल्दी नहीं फटते हैं. क्योंकि बुलबुल का बनना साबुन का गुण होता है. अगर बेहतर रसायन के साथ साबुन का निर्माण होता है. तो उसे बेहतर बुलबुल का निर्माण होता है.

दूसरा कारण है कि साबुन का उपयोग किस पानी में किया गया है. अगर साबुन को मृदु पानी के साथ उपयोग किया गया है. तो उससे बनने वाले बुलबुल अधिक मजबूत होते हैं.और वह जल्दी नहीं फटते हैं. इसके विपरीत अगर पानी की गुणवत्ता कठोर होती है तो उससे बनने वाले बुलबुल जल्दी ही फट जाते हैं.

अगर आप चाहते हैं कि साबुन का बुलबुला ज्यादा देर तक रहे. तो इसके लिए कुछ चीजों का ध्यान में रखना आवश्यक है. पहला यह कि साबुन के बुलबुले का आकार ज्यादा बड़ा नहीं हो. दूसरा यह अच्छी गुणवत्ता का साबुन का उपयोग किया गया हो. तीसरा यह की साबुन का उपयोग कठोर पानी की बजाय मृदु पानी के साथ किया गया हो. क्योंकि उससे बनने वाले बुलबुल कठोर पानी से बनने वाले बुलबुल की तुलना में ज्यादा देर तक टिकते हैं.

निष्कर्ष : आशा है कि साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है कारण है क्या इसका जवाब आपको मिल गया होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

One thought on “साबुन का बुलबुला कुछ समय बाद फट जाता है कारण है | Sabun ka bulbula kuch samay baad fat jata hai karan hai